image05 image06 image07

300x250 AD TOP

Followers

Popular Posts

Featured slider

Feature Label Area

Saturday, 24 September 2016

Tagged under:

Fruit rot of mandarin orange





In December 1978, the author observed the stored fruits of Citrus reticulata Blanco severely infected by a fungus causing soft rot in local fruit market of Faizabad. The entire fruit surface was densely covered by the fungus causing the rot. The fungus was isolated on PDA medium and identified as Trichoderma lignorum (Tode) harz.
In India, T. lignorum has been found on various substrates, viz., soil, rhizosphere region of Pennisetum typhoides, paddy straw of mushroom beds, phyllosphere of Impatiens balsamina and Citrus crysocarpa but not on Citrus reticulata and the present association is a new record for India. (Link)

Cited this as: R.S. Kanaujia (1979): Fruit rot of mandarin orange. Indian Phytopathology. 32(3):450.

Thursday, 15 September 2016

Tagged under:

Notes on a new fungal disease of Alocasia indica

Short hole disease of Alocasia indica Schott, caused by Phoma exigua Desm., earlier unknown to India has been reported from Faizabad. The infection was chiefly confined to the margins of lamina. It started as small nonchlorophyllous spots near the fronds. The spots gradually enlarged irregularly upto 2-3 cm sq. area of the leaf, merged and in final stage, necrosis and then short holes appeared within a month. The pathogenicity tests performed by standard methods proved pathogenic nature of the fungus.(link)


Cited this as : R.S. Kanaujia (1978): Notes on a new fungal disease of Alocasia indica. Indian Phytopathology. 32(3): 463.

Thursday, 1 September 2016

Tagged under:

Wet rot of Amaranthus viridis

 

During survey of fungi causing disease in plants at Faizabad (U.P.), authors observed infection of wet rot disease on Amaranthus viridis L. plants growing as mixed crop with Abelmoschus esculentus at Ram Kote, Ayodhya of Faizabad district in September, 1976. The infection was severe during flowering when percentage of infection recorded was upto 60-70. The microscopic studies of the original specimen and that grown on Czapek's Agar Medium match with the description of Gilman for Choanephora cucurbitarum (Berk. & Rav.) Thaxter. The pathogenicity of the fungus was established. This is the first report of this fungus on Amaranthus viridis (Chaulai). (Link)


Cited this as: C.S. Singh and R.S. Kanaujia (1978): Wet rot of Amaranthus viridis. Indian Phytopathology. 31(1): 99.

Tuesday, 30 August 2016

Tagged under:

Abnormality in Archegoniophore of Marchantia polymorpha L.

Abnormality in the reproductive organs of different genera in order Marchantiales has been described by various workers. The specimen of Marchantia polymorpha L., collected from Mani parvat at Ayodhya in Faizabad exhibits the emergence of an abnormal vegetative branch with gemma cup from the upper half of the archegoniophore. This is supposed to have happened either due to near freaks or by reversion of ancestral characters because compact carpocephala in Marchantiales has been derived by the condensation of the dichotomous branches of the growing point of receptacles.This has been described for the first time from U.P. plains. (Link)


Cited this as: R.S. Kanaujia and C.S. Singh (1975): Abnormality in Archegoniophore of Marchantia polymorpha L. TECHNOLOGY 12(2): 165-166.

Tuesday, 31 May 2016

Tagged under:

धरती के करीब लाल ग्रह: मंगल






मंगल सौर मण्डल में सूर्य से बुद्ध, शुक्र तथा पृथ्वी के बाद चौथा ग्रह है। पृथ्वी से देखने पर इसकी आभा रक्तिम दिखाई देती है इसी वजह से इसे लाल ग्रह के नाम से भी जाना जाता है। मंगल की सूर्य से औसत दूरी लगभग 23 करोड़ कि॰मी॰ और कक्षीय अवधि 687 (पृथ्वी) दिवस है। मंगल पर सौर दिवस एक पृथ्वी दिवस से मात्र थोड़ा सा लंबा है : 24 घंटे, 39 मिनट और 35.244 सेकण्ड। एक मंगल वर्ष 1.8809 पृथ्वी वर्ष के बराबर या 1वर्ष, 320 दिन और 18.2 घंटे है। मंगल का अक्षीय झुकाव 25.19 डिग्री है, जो कि पृथ्वी के अक्षीय झुकाव के बराबर है। परिणामस्वरूप, मंगल की ऋतुएँ पृथ्वी के जैसी है, हालांकि मंगल पर ये ऋतुएँ पृथ्वी पर से दोगुनी लम्बी है। 
अन्य ग्रहों की भांति मंगल भी दीर्घवृत्ताकार कक्षा मे सूर्य की परिक्रमा करता है। इसी वजह से इसकी दूरी पृथ्वी से बदलती रहती है। इसके अलावा ग्रहों विशेषकर ब्रहस्पति का गुरुत्व खिंचाव भी इसके परिक्रमा मार्ग पर आंशिक असर डालता है। पृथ्वी से इसकी सबसे निकटतम दूरी 5.46 करोड़ किलोमीटर होती है जब कि अधिकतम दूरी 40 करोड़ किलोमीटर तक हो जाती है । वर्ष 2003 में मंगल ग्रह धरती के बेहद करीब आया था। तब पृथ्वी से इसकी दूरी मात्र 5.57 करोड़ किलोमीटर दर्ज की गई थी। ऐसा दुर्लभ नज़ारा पिछली बार 60 हजार वर्ष पूर्व हुआ था। भविष्य मे ऐसी करीबी स्थिति वर्ष 2287 में बनेगी।
अयोध्या में मंगल ग्रह को देखते हुए डॉ आर. एस. कनौजिया, कामेश मणि पाठक, इनरमल, महेश, सुशील कुमार, पूनम तथा लावण्या (दाहिने से बायें) 30 मई, 2016, 9:40 पी एम
इस बार फिर, इस वर्ष 8 मई से लेकर 3 जून तक मंगल ग्रह पृथ्वी के काफ़ी नजदीक से गुजरेगा। इस दौरान 30 मई को रात 9:36 पी एम पर यह पृथ्वी के सबसे नजदीक होगा। इस समय पृथ्वी और मंगल के बीच दूरी महज़ 7.53
करोड़ किलोमीटर रह जाएगी। अगली बार यह नजारा  31 जुलाई, 2018 को दिखेगा।

Saturday, 21 May 2016

Tagged under:

बासी गन्ने मे शर्करा क्षरण को कम करने हेतु परियोजना के कार्यों का संयुक्त सारांश

चीनी उत्पादन को प्रभावित करने वाले कारकों में गन्ना  काटने से लेकर पेराई के बीच होने वाले अंतर का चीनी परता के ह्रास में मुख्य भूमिका है। इस ह्रास से किसान एवं चीनी उद्योग दोनों को राजस्व का घाटा होता है। ऐसे ह्रासो को कम करने की दिशा में विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद, लखनऊ द्वारा एक वित्त पोषित परियोजना गन्ना शोध संस्थान, शाहजहाँपुर में वर्ष 2006 से 2008 के मध्य चलाई गई। 
परियोजना के प्रथम वर्ष (2006-2007) में ऐसी प्रजातियों का चयन किया गया था जिनमे शर्करा विघटन को रोकने की अपेक्षाकृत अधिक शक्ति होती है। सामान्य तौर पर गन्ने की बुवाई शरद (अक्टूबर - नवम्बर), बसन्त (फरवरी - मार्च) एवं देर बसन्त (अप्रैल- मई ) में की जाती है। इस अध्ययन में गन्ने के वजन का अपेक्षाकृत ज्यादा ह्रास शरदकालीन गन्ने में पाया गया। शर्करा ह्रास बसंतकालीन गन्ने में अपेक्षाकृत कम मिला। शरदकालीन प्रयोग मे 10 होनहार गन्ना प्रजातियों (को0 शा0 767,को0 शा0 8432, को0 शा0 97261, को0 शा0 97264, को0 शा0 95255, को0 शा0 8436, को0 शा0 96268, को0 से0 92423 एवं को0 शा0 98231) का मार्च, अप्रैल एवं मई के महीनों मे गन्ना काटने के उपरांत 24, 48, 72, 96 एवं 120 घंटे तक वजन एवं शर्करा के आंकड़े लिए गए। परिणाम बताते हैं कि जैसे-जैसे मार्च से मई के मध्य वातावरण का तापक्रम तथा स्टेलिंग की अवधि बढ़ती गई वैसे-वैसे गन्ने के वजन में कमी परिलक्षित होती गई। यह मार्च, अप्रैल एवं मई के महीनों मे क्रमश: 7.00 से 11.25 प्रतिशत, 10.70 से 13.25 प्रतिशत तथा 13.00 से 18.75 प्रतिशत आंकी गई। 24 से 120 घंटे की कुल अवधि मे औसतन यह कमी 4.58 से 19.58 प्रतिशत तक मिली। इस आधार पर को0 से0 92423, को0 शा0 8436, को0 शा0 8432, को0 शा0 97261 तथा को0 शा0 767 प्रजातियाँ वजन में कम ह्रास प्रदर्शन के कारण सर्वश्रेष्ठ पायी गई। गन्ना भार की तरह शर्करा की मात्र भी तापक्रम तथा स्टेलिंग की अवधि बढ़ने पर कम होती गईं जो मार्च, अप्रैल तथा मई में क्रमश: 0.46 से 0.53 प्रतिशत, 0.59 से 0.90 प्रतिशत तथा 0.85 से 1.02 प्रतिशत पाई गई। 24 से 120 घंटे की कुल अवधि मे औसतन यह कमी 0.07 से 1.76 प्रतिशत तक देखी गई। इस कार्य मे आशातीत सफलता प्राप्त हुई तथा विभिन्न प्रजातियों (को0से0 92423, को0 शा0 8436, को0 शा0 95255 तथा को0 शा0 96268) का चयन किया गया जो गन्ना भार तथा देर तक शर्करा विघटन रोकने मे सक्षम रही। 
परियोजना के द्वितीय वर्ष (2007-2008) में मुख्य रूप से वैज्ञानिक यांत्रिक एवं रसायनिक विधियों का आंकलन करना था जिसके द्वारा गन्ना काटने के बाद भार एवं चीनी परता ह्रास को कम करने में सहायक पाया जा। इस कार्य के प्रथम चरण में कटे हुए गन्ने को निम्नलिखित विधियों  के अंतर्गत  रखा गया। तदुपरान्त 0 से 120 घंटों तक गन्ना भर एवं चीनी परता का आंकलन किया गया। 
  • गन्ने को छाया में रखना। 
  • गन्ने को खुले स्थान पर रखकर गन्ने की पत्तियों से ढकना (0.5 कुं0 गन्ने की पत्तियाँ एक टन गन्ने के लिए पर्याप्त हैं)। 
  •  गन्ने पर पानी का छिङकाव करना (250 ली0 पानी एक टन गन्ने के लिए पर्याप्त)। 
  • गन्ने को खुले स्थान पर रखकर गन्ने की पत्तियों से ढकना तथा पानी का छिडकाव करना (उपरोक्त अनुसार )। 
 इन विधियों  को अपनाकर कटे हुए गन्ने में होने वाले भार एवं चीनी परते के ह्रास को कम किया जा सकता है। 
द्वितीय वर्ष (2007-2008) के प्रयोग में यह पाया गया कि सभी उपरोक्त विधियाँ नियंत्रण (खुले स्थान पर गन्ने को रखना) के तुलना मे सार्थक रूप से अच्छी पाई गईं। यद्यपि गन्ने को खुले स्थान पर रखकर गन्ने की पत्तियों से ढकना तथा पानी का छिडकाव करना अपेक्षाकृत अच्छा पाया गया लेकिन किसान उपरिलिखित कोई भी विधि अपनाकर गन्ना भार एवं चीनी परता में होने वाले ह्रास को कम कर सकता है। फिर भी, यदि सामान्य रूप से कटे गन्ने के ढेर को गन्ने की सूखी पत्तियों से जो कि आसानी से उपलब्ध हो जाती है, ढ़क दिया जाए तो यह विधि अपेक्षाकृत आसान होती है। 
रासायनिक विधि में विभिन्न रसायनों (मरक्यूरिक क्लोराइड, ज़िंक सल्फेट, अमोनियम बाइफ्लोराइड, सैलीसिलिक एसिड, सोडियम एजाइड) के 1 प्रतिशत घोल का  कटे हुए गन्ने पर छिडकाव करके गन्ना भार एवं चीनी परता ह्रास को कम करने का प्रयास किया गया। इस दिशा मे भी सफलता प्राप्त हुई। सभी रसायनो ने चीनी परता ह्रास के संबंध मे नियंत्रण (किसी भी रसायन का छिडकाव नहीं) की तुलना में अच्छे परिणाम दिये। ये परिणाम नियंत्रण की तुलना मे सांख्यिकीय दृष्टि से सार्थक पाये गए। उपरोक्त रसायनों मे सोडियम एजाइड एवं अमोनियम बाइफ्लोराइड ने अपेक्षाकृत  अच्छा परिणाम दर्शाया। 
इस प्रकार यदि चीनी मिल गेट पर अत्यधिक गन्ना एकत्रित हो जाए अथवा किसी कारण से  चीनी मे शटडाउन की स्थिति उत्पन्न हो जाए जिससे गन्ना पेराई मे विलंब की संभावना हो तो उपरोक्त रसायनों का छिडकाव कर चीनी मिल चीनी परता में होने वाले ह्रास को कम कर सकती हैं। 
इसी क्रम में द्वितीय वर्ष में इस बात का भी अध्ययन किया गया कि यदि गन्ने के साथ पताई भी पेराई में जा रही हो तो चीनी परता पर क्या प्रभाव पड़ेगा। इस प्रयोग द्वारा यह सिद्ध हो गया कि  पेराई मे गन्ने के अलावा कोई भी अन्य चीज के जाने से रस की प्रतिशतता एवं चीनी परता कुप्रभावित होती है।

Friday, 20 May 2016

Tagged under:

To develop technologies for minimizing sugar losses in staled sugarcane under U.P. conditions : A Joint Report

Late crushing of sugarcane is emerging challenge to Indian Sugar Industry. The time lag between harvesting to milling of cane generally ranges between 3-7 days which entails losses in recoverable sugar due to staling. Staling losses are virtually most detrimental to sugar industry. These losses affect the cane tonnage which have to bear to the can growers. To minimizing staling losses, a research scheme sponsored by Council of Science and Technology (Uttar Pradesh) was carried out at Sugarcane Research Institute, Shahjahanpur during 2006-2008. 
In the first year of the project (2006-2007), the relative losses in sugar recovery and cane weight in elite varieties (CoS 767, CoS 8436, CoS 8432, CoS 97261, CoS 97264, CoSe 92423, CoS 95255, CoS 96268, CoS 96275 and CoS 98231) during staling hours from 0-120 in the month of March, April and May were assessed under the prevailing ambient temperature on the location. Irrespective of the varieties and months the increasing staling hours minimized the cane weight and sugar recovery. As per objective of the project, the investigation was made to find out those varieties which possessed maximum potential to face the staling constraints for the cane weight and sugar recovery losses. Among the varieties studies, variety CoS 8436, CoS 8432, CoS 97261, CoS 767 and CoSe 92423 found relatively better for less reduction in cane weight during the above said months. In respect of sugar recovery (Pol % Cane), varieties CoS 8436, CoS 8432, CoS 95255 and CoS 96268 found better due to their less reduction in sugar recovery during staling hours. These varieties are commonly cultivated at cane growers field. These findings have been disseminated to the sugar factory peoples, officials and cane growers by organizing several meeting at Sugarcane Research Institute, Shahjahanpur and these were duly informed to the commissioner, U.P. also. 
After completion of first phase of the work in respect of selection of suitable and sustainable varieties which possessed sugar retaining potential for the longer period during staling, the second phase (2007-2008) was started with the objective to find out the suitable technologies by which the cane weight losses and sugar recovery during staling may be minimized. In this direction, irrespective of the varieties, it was focused much more on the technologies that should be easily adoptable and feasible.  In the first year, it was assessed about the losses occurred during staling. The technologies applied to second year were divided in to two sections i.e. mechanical applications and foliar spray of different chemicals on harvested canes. 
In the mechanical application, five treatments were included, viz., cane stored under shade, water spray, cane with trash cover and cane with trash cover + water spray. The data revealed that the cane weight losses can be minimized by putting the cane under shade condition or water spray under open condition (250 L water for one ton cane heap) or covering the harvested cane with cane trash under open condition (0.5 quintal trash is sufficient to cover one ton cane heap) or covering the harvested cane with cane trash along with water spray under open condition (as mentioned above). These mechanical applications are effective in minimizing the cane weight loss in staled canes. The minimization value noted at par among themselves but significantly differ to those canes which were left under open condition without any treatment. These technologies are more pronounced in the later months (April and May) when the ambient temperature become high and there are even possibilities of drying the canes rapidly. 
In the chemical method, five chemicals namely Mercuric Chloride, Salicylic Acid, Ammonium Bifluoride, Zinc Sulphate and Sodium azide were sprayed (1 % conc.) on harvested canes. Among these chemicals although all are at par among themselves but relatively more effective chemicals were observed Sodium Azide and Ammonium Bifluoride in minimizing sugar losses in staled sugarcane compared to other.
The extraneous matter affected to the extraction % of juice and sugar recovery. Therefore, it was concluded that the cane should be free from all the extraneous matter to get maximum juice and sugar from the cane.